गर्लफ्रेंड की गांड की पहली बार चुदाई

अन्तर्वासना सेक्स कहानी पर सभी को मेरा नमस्कार; समस्त भाभियों व कमसिन कन्याओं को मेरा प्यार भरा नमस्कार!
दोस्तो, कैसे हो आप सब?
मैं नवनीत अजमेर से आप सभी पाठक पाठिकाओं का स्वागत करता हूं। मेरी उम्र 20 साल है लन्ड 6 इंच लम्बा व 2.5 इंच मोटा है।
इस साइट पर यह मेरी दूसरी कहानी है आशा करता हूं कि आप सबको पसंद आएगी.

इस कहानी को पढ़कर लड़के मुठ मारने से व लड़कियाँ व भाभियाँ चूत में उंगली करने से अपने आपको नहीं रोक पाएंगी।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको मेरी कहानी पसंद आएगी। आप लोगों का प्यार व आपके कमेंट मुझे प्राप्त होंगे. यह मेरा सौभाग्य होगा.

आपने मेरी पिछली सेक्सी स्टोरी में पढ़ा कि पहली बार की चुदाई के बाद लंड का टांका टूटने की वजह से काफी दर्द रहा था. उधर मेरी गर्लफ्रेंड क्रिया का भी यही हाल था.
उसके बाद हम दोनों दो दिन तक कोचिंग नहीं गए थे.

उसके बाद काफी समय तक हमें चुदाई का मौका नहीं मिला.

फिर एक दिन कोचिंग में लड़के लड़कियों ने पुष्कर मेले में घूमने का विचार किया वहां पर हम लोगों ने होटल में कमरे बुक कर लिए.
क्रिया को भी अपने मम्मी पापा से जाने की परमिशन मिल गई थी।

मैंने क्रिया से पहले ही कह दिया था कि वो अपनी गांड का छेद धीरे धीरे ढीला करना शुरू कर दे. उसने भी उसी दिन से लेट्रिन जाने के बाद अपनी गान्ड में वेसलीन लगा कर एक एक दो दो उंगलियां डालनी शुरू कर दी।

फिर आया जाने वाला दिन … और हम बस से पुष्कर के लिए रवाना हुए.

हमारा 11 जनों का ग्रुप था; 6 लड़कियों व 5 लड़के हम सब गर्लफ्रेंड बॉयफ्रेंड ही थे. बस एक लड़की ज़रीना का बॉयफ्रेंड नहीं था और वो क्रिया की पक्की सहेली थी. तो क्रिया ने उसे भी ले चलने पर जोर दिया.

हमने 6 कमरे बुक किए थे. हम सब पहले होटल में गए. पहले फ्रेश होकर फिर घूमने निकले.

घूमने के बाद शाम को देर खाने के बाद होटल लौटे तो सब थके हुए थे तो सब अपने अपने कमरे की ओर चल दिए।

क्रिया ने उस दिन लाल साड़ी पहनी थी और वो किसी भी नई दुल्हन से कम नहीं लग रही थी.

रूम में पहुंचते ही मैंने क्रिया को बेड पर लेटा दिया.
क्रिया- अरे रुको तो सही … कपड़े तो बदल लेने दो.
मैं- रहने दो, आज भी तुम्हें इसी रूप में पा लेने का दिल है मेरा!

यह सुनकर मेरी गर्लफ्रेंड लेट गई. मैंने अपने हाथ से उसका पल्लू हटाया उसने ब्रा टाइप का ब्लाउज पहन रखा था जिसमें उसकी दूध सी गोरी चूचियां बाहर निकल रही थीं, ब्रा को फ़ाड़ देना चाहती थी।

मैंने अपनी गर्लफ्रेंड का ब्लाउज उतारकर उसकी फ़िरोज़ी ब्रा खोलकर उसकी चूचियों को क़ैद से आजाद कर दिया. गोरी गोरी चूचियों पर ब्रा में कसने से लाल धारियां बन गयी थी. क्रिया एकदम दूध सी गोरी हैं उसके सामने अच्छी अच्छी हिरोइन फेल हो जाए।

मैं अपनी गर्लफ्रेंड की चूचियां चूसने लगा जैसे कि उनमें से दूध निकाल रहा हो. फिर मैं धीरे से उसकी नाभि पर आ गया. उसकी नाभि एकदम गहरी है, मैं उसमें जीभ डालकर काफी देर तक चूसता रहा.

फिर मैंने धीरे से उसके पेटीकोट में फंसी साड़ी की चुन्नटों को निकाल दिया. उसके बाद उसकी साड़ी को निकाल दी और पेटीकोट उतार दिया।

मेरी गर्लफ्रेंड ने अन्दर फ़िरोज़ी रंग की पेंटी पहनी थी, उसे भी मैंने उतार दिया. अब मेरी गर्लफ्रेंड की कोमल सी चूत मेरे सामने थी, उसकी चूत एकदम गोरी है, जिसको देखते ही चूस जाने का मन करे.

मैंने देखा कि उसकी चूत पहले ही पानी छोड़ रही थी. मैंने अपनी जीभ वहां लगा दी काफ़ी समय तक उसकी चूत चाटता रहा जब तक उसका पानी ना निकल गया।

फिर धीरे से मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की गान्ड के छेद में एक उंगली धीरे से डाल दी. वहां पर पहले से ही वेसलीन लगी हुई थी. फिर भी क्रिया को थोड़ा दर्द हुआ। पहले मैं एक उंगली गांड में घुसा कर अंदर बाहर करता रहा फिर थोड़ी देर बाद मैंने गांड में दो उंगली डाल दी।

क्रिया- प्लीज़ निकालो ना … दर्द हो रहा है.
मैं- थोड़ी देर रुक जाओ, दर्द कम हो जाएगा।
मैं वापस उसकी चिकनी चूत चाटने लगा तो मेरी गर्लफ्रेंड गर्म होने लगी.

क्रिया बोली- प्लीज़ मेरी चूत चोद दो, पीछे बाद में कर लेना।

उसके बाद मैंने अपनी गर्लफ्रेंड की गांड के नीचे एक तकिया लगाया फिर धीरे धीरे उसकी चूत में लंड डालने लगा। काफी समय बाद उसकी दूसरी चुदाई हो रही थी तो उसकी चूत फिर से कस गई थी.
मैंने एक जोर का धक्का दिया जिससे मेरा आधा लंड उसकी चूत में चला गया और मेरी गर्लफ्रेंड की आंखों में आंसू आ गए।

क्रिया- प्लीज़ निकालो इसे … मुझे नहीं करवाना, मैं मर जाऊंगी! मुझे दर्द हो रहा है।

मैं पांच मिनट तक रुका रहा, फिर मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किए. अब मेरी गर्लफ्रेंड उसके मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… की आवाज आने लगी। उसे चूत चुदाई का मजा आने लगा था.

उसके बाद उसने खुद से कमर उठाकर धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किए तो मैं समझ गया कि क्रिया तैयार है. फिर मैंने तेज तेज धक्के लगाने शुरू कर दिए. मेरी गर्लफ्रेंड की चूत काफी कसी हुई थी और लंड एकदम कसा हुआ जा रहा था उसकी चूत में।

उसके मुंह से आवाजें आने लगी- आआः आह आह … थोड़ा जोर से करो आह … आह … हाँ बस ऐसे ही … थोड़ा जोर से मारो। और मारो मेरी चूत को … ये कभी चैन नहीं लेने देती है। हमेशा परेशान करती रहती है। और जोर से … आह आह आह … बस बस धीरे … मेरा हो गया।

फिर मैंने भी जोर से 10-15 धक्के मारे और झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया।

कुछ देर बाद मेरा लंड मुरझा कर मेरी गर्लफ्रेंड की चूत से निकल गया तो मैंने नीचे देखा तो मेरी गर्लफ्रेंड की चूत में से खून निकल रहा था, उसकी चूत वापस कस गयी थी शायद इसी लिए।

मैं उसे प्यार करने लगा, उसे खूब चूमा चाटा, काफी देर मैंने उसे प्यार भरी बातें की. इस बीच मैं मेरी गर्लफ्रेंड के नंगे बदन पर हाथ फिरा फिरा कर उसे गर्म करता रहा.

उसके बाद मैंने अपने लंड पर वेसलीन लगाई और उसकी गान्ड में भी वेसलीन भर दी.
तब मैंने उसे उल्टा लेटा कर घोड़ी बना दिया व धीरे धीरे मेरी गर्लफ्रेंड की गान्ड में लंड डालने लगा.

उसको काफ़ी दर्द हो रहा था पर वो सह रही थी। मेरा टोपा अंदर जा चुका था और उसकी आंखों से आंसू निकल रहे थे।
मैंने थोड़ा ज्यादा जोर का धक्का मार दिया जिससे वो आगे की खिसक गई.

मेरे लंड में भी जोर का दर्द हो रहा था. ऐसा लग रहा था कि मेरा पूरा लंड छिल चुका है तो मैं भी शांत रुका रहा।
मैंने उसे काफी जोर से पकड़ रखा था और वो रोने के चिल्लाने लगी- आह आह आह … मम्मी … मार डाला! मुझे नहीं मरवानी गान्ड! निकालो बाहर इसे!

तब तक मेरा पूरा लंड मेरी गर्लफ्रेंड की गान्ड के अंदर जा चुका था. मैं उसे पीठ पर किस करने लगा और नीचे से उसकी चूत में उंगली करने लगा।

धीरे धीरे उसका दर्द काम होने लगा और वो कमर हिलाने लगी। मैं समझ गया कि वो गांड चुदाई के लिए तैयार है, फिर मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा।
क्रिया- आह आह आह मम्मी बस ऐसे ही जोर जोर से मारो।

मेरी गर्लफ्रेंड सिसकारी भरने लगी क्रिया. उसकी गान्ड से हल्का सा खून निकल रहा था।

हमें गांड चुदाई करते लगभग 15 मिनट हो चुके थे. अब मेरा भी निकलने वाला था तो मैंने 10-15 धक्के जोर जोर से लगाए. इसी के साथ हम दोनों एक साथ झड़ गए।

हम दोनों लेट गए मेरी नजर खिड़की पर गई वहां पर ज़रीना खड़ी थी वही जो अकेली थी। हम दोनों की नजरें मिली और वो भाग गई।
फिर मैंने क्रिया को उठाया. उससे चला नहीं जा रहा था, उसकी चाल बदल गई थी. मैं सहारा देकर नंगी गर्लफ्रेंड को बाथरूम में ले गया और गीजर के गर्म पानी से उसकी चूत व गान्ड के छेद की सिकाई की।

फिर दोनों आकर मैंने उसे एक दर्दनिवारक गोली दी जिससे दर्द कम हो।

सुबह हमें वापस निकालना था अजमेर के लिए!

तो हम सब जब मिले तब क्रिया लंगड़ा कर चल रही थी तो एक लड़की ने पूछा- क्रिया क्या हुआ?
क्रिया- कुछ नहीं … बाथरूम में पैर फिसल गया था तो गिर गई थी।

ज़रीना हम दोनों की तरफ देखकर मुस्कुरा रही थी उसे पता चल चुका था हमारे बारे मे।

आगे की सेक्सी कहानी में बताऊंगा कि कैसे मुझे ज़रीना की कुंवारी चूत चोदने का मौका मिला।
आशा करता हूं कि आपको मेरी गर्लफ्रेंड की चूत गांड चुदाई की सेक्सी स्टोरी पसंद आई होगी. आप से अनुरोध है कि मुझे कमेंट करके बताएं!

 

ऐसी ही कुछ और गरमा गर्म कहानियाँ: