सहेली की निगरानी में गर्लफ्रेंड की चुदाई

क्लासरूम सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरी कक्षा की एक खूबसूरत लड़की मुझे पसंद करती थी. एक दिन उसने मेरी नोटबुक मांगी और उसमें एक पर्ची रख दी.

हाय दोस्तो, मेरा नाम नील है और मैं पुणे से हूँ।

यह एक सच्ची कहानी है, बस कहानी के पात्रों के नाम बदल दिए हैं।

दोस्तो, यह बात तब की है जब मैंने अपने बारहवीं की पढ़ाई कर रहा था।

मेरी कक्षा में एक बहुत ही खूबसूरत लड़की थी जिसका नाम रचना था।
उस पर कक्षा में सभी लड़के लाइन मारते थे।
लेकिन मैं अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित कर रहा था और इन बातों से दूर ही रहने लगा।

मेरे इस विनम्र आचरण ने मुझे रचना की ओर आकर्षित किया। वह मुझे लगातार देखती थी लेकिन मैं बचपन से ही शर्मीला था इसलिए मैं उसकी तरफ नहीं देखता था।
पर वो मुझे देखकर मुस्कुराने लगती थी। मैं भी उसे मुस्कुरा कर उत्तर दे देता था।
एक दो बार उसने मुझसे बात करने की कोशिश की लेकिन रचना झिझक रही थी और ठीक से बात नहीं कर पा रही थी।

मुझे भी धीरे-धीरे उसके रूप-रंग की अच्छा लगने लगा। मुझे उससे भी प्यार होने लगा था।

एक दिन उसने मुझसे मेरी नोटबुक माँगी।
मैंने उसे मेरी नोटबुक दे दी।

अगले दिन जब वह मेरे पास अपनी नोटबुक वापस करने आई तो मैंने उसकी आँखों में एक अलग ही चमक देखी।
उसने तुरंत नोटबुक मुझे सौंप दी और वापस अपने सहेलियों से घुलमिल गयी और चुपके से मेरी तरफ देखने लगी।

मैंने अपनी नोटबुक ली और बेंच पर बैठ गया।
मुझे कुछ संदेह था इसलिए जब मैंने इसे खोला तो मैंने उसमें एक कागज का टुकड़ा देखा।

जब मैंने उसे खोला, तो उसमें लिखा था “आई लव यू!”

मुझे यह जानकर बहुत खुशी हुई कि कॉलेज की लड़की जिसे सभी लड़के लाइन मारते हैं वह मुझसे प्यार करती है।
खाली पीरियड मैंने उससे बात करने का फैसला किया।

उसी दिन आखरी पीरियड में सभी लड़के और लड़कियां मैदान पर खेलने के लिए बाहर गए।
रचना और मैं दोनों कक्षा में थे।

मैं एक कोने में चला गया.
वह तुरंत मेरे पास आई और मुझे गले से लगा लिया और बोली- आई लव यू।
वह मेरे इतने करीब आ गई और मुझे इतना हग किया कि मेरे दिल की धड़कन बढ़ गयी।

मैंने उसे गले लगाया और कहा- आई लव यू!
उसने मुझे होंठों पर चूमा।

यह मेरे जीवन का रचना के साथ पहला चुंबन अनुभव था।

मैंने उसे थोड़ी देर अपनी बांहों में जकड़ के रखा था।
मुझे पहली बार रचना के शरीर का स्पर्श महसूस हो रहा था।

वह मुझे छोड़ना नहीं चाहती थी।
एक डर था कि कोई भी किसी भी समय कक्षा में आ सकता है।

हम थोड़ी देर के लिए एक दूसरे की आगोश में थे और उसके बाद मैंने उसे चूमा और दूर चला गया।

हमने हर दिन ऐसा करना शुरू कर दिया।

उसने अपनी सबसे अच्छी दोस्त स्नेहा को हमारे प्यार के बारे में बता दिया था।
तो अब स्नेहा दरवाजे से खड़ी होकर देखती रहती। इसलिए अब हम दोनों बिना किसी डर के क्लास में प्यार कर सकते थे।

कभी मैं उसके बूब्स को छूता तो कभी मैं उसकी गांड दबा देता।
वो भी मेरे उभरे हुए लंड को अपनी पैंट से छू लेती थी।

जब भी कोई आने लगता तो उसकी सहेली स्नेहा हमें आवाज लगा लेती।
फिर हम एक-दूसरे से दूर हो जाते।

एक दिन सभी लड़के और लड़कियाँ मैदान में गए हुए थे क्योंकि कॉलेज में कुछ कार्यक्रम था।

मैं, रचना और उसकी सबसे अच्छी दोस्त स्नेहा सभी उस खाली कक्षा में आ गए।

स्नेहा ने कहा- रचना, तुम दोनों बिना किसी चिंता के मस्त हो जाओ. मैं बाहर से दरवाजा बंद कर देती हूँ। कोई यहाँ नहीं आएगा।
हम स्नेहा की बात से सहमत हो गये।

फिर हम कमरे में दाखिल हुए और उसने बाहर से दरवाजा बंद कर दिया।

मैंने रचना को करीब ले लिया और उसे चूमा।

उसने सलवार कुर्ता पहना हुआ था। मैंने जल्दी से उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया।
तुरंत मैंने उसका कुर्ता उतार दिया।

रचना अब डिजाइन अब ब्रा और पैंटी पर थी।

मैं उसके स्तनों को दबाने लगा।
रचना लजा कर मुझसे लिपट गई।

मैंने अपना हाथ उसकी पैंटी में डाल दिया और उसके चूतड़ों को सहलाने लगा।
वह बहुत शरमा रही थी क्योंकि मैंने अपना हाथ उसकी गांड से उसकी चूत तक पहुँचा दिया।

जैसे ही मैंने उसकी पैंटी को एक हाथ से नीचे खींचना शुरू किया, वह शर्म से भागने लगी।
मैंने उसे अपने पास खींच लिया और कहा- जान, अपने पास समय नहीं है, कोई भी आ सकता है।

इस पर वह गर्म हो गई और मैंने उसकी पैंटी को निकाल दिया।
मैंने अपनी उंगलियाँ उसकी चिकनी चूत के ऊपर रख दीं।

फिर मैंने उसकी डिज़ाइनर ब्रा उतार कर बेंच पर रख दी।
इसके बाद मैंने अपनी पैंट उतार दी और अपना लंड निकाल कर उसके सामने रख दिया और कहा- रचना, इसे थोड़ा चूसो ना!

मुझे लग रहा था कि रचना मेरा लंड चूसने से मन कर देगी पर हैरानी की बात थी कि मेरे एक ही बार कहने पर वो मेरा लंड चूसने लगी।
जब मेरा गर्म लंड उसके होंठों के बीच में दबा तो जिन्दगी का मजा आ गया यारो!

थोड़ी देर उसके लंड को चूसने के बाद मैंने उसे बेंच पर लिटा दिया और उसकी टांगों को पकड़ कर उसकी गांड को उसके किनारे तक लाया।

फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा और धीरे धीरे चूत की दरार पर रगड़ने लगा।
उसने दो उंगलियों से अपनी चूत को खुला रखा था।

मेरा लंड उसकी चूत में थोड़ा सा घुस गया और उसने एक आह निकाली ‘आह्ह!
स्नेहा बाहर से बोली- अरे यार, आवाज कम करो … तुम्हारी आवाज़ बाहर तक आ रही है।

यह सुनकर रचना ने अपने दांतों के बीच अपनी आवाज़ दबाई और मैं लंड को अंदर बाहर करने लगा।

उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया।
मैंने उसकी टाँगों को फैलाया और लंड को चूत के अन्दर कर दिया।

इसके बाद मैंने अब उसकी चूत में धक्के लगाने शुरू कर दिए।
उसने अपने चूतड़ों को हिलाना शुरू कर दिया। इससे बेंच हिलने लगी और उसमें से चूँ चूँ की आवाज आने लगी.

स्नेहा ने बाहर से कहा- ओह यार … तुम लोग किसी दूसरी बेंच पर करो. यहां शोर आ रहा है।

मैंने कहा- स्नेहा यार… यहाँ सभी के सभी बेंच पुराने हैं।
उसके साथ मैंने रचना की दोनों टाँगें अपने कंधों पर रख लीं और उसे मसलने लगा।

रचना की चुत गीली थी। मेरे शॉट ने उसकी जोर से आह निकल गई।

मैंने उसको को चोदना शुरू कर दिया और उसकी चूचियाँ मसलने लगा।

हमारी चुदाई से वो पुरानी बेंच आवाज करने लगी।

उसी समय रचना के मुँह से बड़ी-बड़ी आहें निकल रही थीं।
स्नेहा बाहर से हमें सतर्क कर रही थी।

मैंने रचना को थोड़ी देर तक चोदा और फिर मेरा लंड तुरंत पानी छोड़ने के लिए तैयार था।
तो मैंने उसकी चूत से लंड निकाला और अपना वीर्य उसके पेट पर छोड़ दिया.

मेरे माल की एक पिचकारी रचना के बूब्स और होंठों तक गयी।

इसी के साथ हमारा सेक्स कार्यक्रम समाप्त हो गया था।

मैंने उसे उठाया।
हम जल्दी से तैयार हो गए और स्नेहा को दरवाजा खोलने के लिए कहा।

उसके बाद जब भी हमें ऐसा मौका मिला, हम दोनों ने स्नेहा की मदत से कॉलेज के कमरे में चुदाई शुरू रखी।

और बाद में मैंने स्नेहा की ही मदद से स्नेहा के घर में रचना की गांड भी मारी।

स्नेहा हमारी चुदाई से गर्म हो जाती थी.
और एक दिन ऐसा आया कि उसने भी अपनी तपती जवानी मुझे सौम्प दी।

कोई पागल ही होगा जो कुँवारी चूत छोड़ेगा!

हाँ लेकिन स्नेहा और मैंने आपस में सेक्स की बात रचना को कभी नहीं बतायी. हम उसे खोना नहीं चाहते थे।

मेरी सेक्सी कहानी पर अपनी राय जरूर दें जिससे मुझे लिखने की प्रेरणा मिले और मैं अपनी गलतियां सुधारूं.
[email protected]

ऐसी ही कुछ और गरमा गर्म कहानियाँ: